घरौंडा/करनाल – अब फरीदपुर एक साधारण गांव नहीं रहा बल्कि राष्ट्रीय मानचित्र पर मिलेगी पहचान – मुख्यमंत्री मनोहर लाल

0
109

घरौंडा/करनाल – मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि रेत खनन के कार्य में प्राचीन मूर्तियां मिलने से फरीदपुर अब एक साधारण गांव नहीं रहा है बल्कि उसे प्रदेश और राष्ट्रीय मानचित्र पर विशेष पहचान मिलेगी। उन्होंने कहा कि पुरातत्व विभाग की जांच में इस बात का भी पता लगाया जाएगा कि यमुना के इस क्षेत्र में इस तरह के कुछ और प्राचीन संस्कृति की मूर्तियां उपलब्ध हैं या नहीं। जांच में पुष्टि होने के बाद पुरातत्व विभाग के माध्यम से इस क्षेत्र के लिए सरकार द्वारा विशेष कार्य योजना तैयार की जाएगी और यह क्षेत्र देश और विदेश के लोगों के आकर्षण के केन्द्र के रूप में उभरकर सामने आएगा।
मुख्यमंत्री ने आज जिला के गांव फरीदपुर का दौरा किया और खुदाई के दौरान मिले प्राचीन शिवलिंग, नंदी और शिलाओं के दर्शन किए और सनातन परम्परा के अनुसार मंत्रोच्चारण के बीच पूजा-अर्चना की। इस मौके पर उनके साथ घरौंडा के विधायक हरविन्द्र कल्याण, भाजपा के जिलाध्यक्ष जगमोहन आनंद, भाजपा किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष सतीश राणा सहित भाजपा के अन्य पदाधिकारियों ने भी पूजा-अर्चना व आरती में भाग लिया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने युवा क्लब फरीदपुर के नौजवान साथियों का हौंसला बढ़ाया और कहा कि गांव के लोगों की धार्मिक आस्था का पूरा ध्यान रखा जाएगा।
उन्होंने इस अवसर पर कहा कि रेत की खुदाई के दौरान मिले शिवलिंग, नंदी और शिलाओं को हजारों वर्ष पुराना बताया जा रहा है और शिलाओं पर की गई मूर्तिकला भी भारतीय प्राचीन संस्कृति पर आधारित है। उन्होंने कहा कि पुरातत्व विभाग को भी इस मामले की जानकारी मिल चुकी है और वे अपने स्तर पर इस पूरे मामले की जांच करके तथ्य जुटाएंगे। मुख्यमंत्री ने रेत की खुदाई स्थल का दौरा करके उस स्थान का अवलोकन भी किया, जहां से यह मूर्तियां प्राप्त हुई हैं। उन्होंने जिला प्रशासन व खनन विभाग को निर्देश दिए कि वे पुरातत्व विभाग से समन्वय स्थापित करके इस पूरे मामले की गहराई से जांच करें और यदि यहां पर किसी प्राचीन मंदिर, आबादी इत्यादि के अवशेष मिलते हैं, उसके बाद कार्य योजना पर आगे की कार्यवाही आरंभ करें।
उन्होंने कहा कि यमुना और सरस्वती नदियों के किनारे विश्व की प्राचीन संस्कृति और सभ्यता के प्रमाण पहले भी मिल चुके हैं। इसी तरह की जानकारी हिसार जिला के राखीगढ़ी क्षेत्र में भी मिली है जिस पर पर्यटन और पुरातत्व विभाग मिलकर कार्य कर रहे हैं। वहां की खुदाई के दौरान न केवल प्राचीन काल के मकान मिले हैं बल्कि पूरे के पूरे गांव दबे हुए पाए गए हैं। राखीगढ़ी के प्रति भी पूरे विश्व के लोगों की उत्सुकता बढ़ रही है और वहां अलग-अलग राज्यों के साथ-साथ विदेशी लोग भी बड़ी संख्या में प्राचीन संस्कृति की जानकारी हासिल करने के लिए पहुंच रहे हैं।
इस अवसर पर उपायुक्त विनय प्रताप सिंह, पुलिस अधीक्षक एसएस भौरिया, एसडीएम घरौंडा गौरव कुमार सहित विभिन्न गांवों के सरपंच, पार्टी  के पदाधिकारी व कार्यकर्ता, युवा क्लब के सदस्य सुनील कुमार, सचिन कुमार, विक्की, मनीश, सोहन, सुनील सैनी, सचिन, गांव के सरंपच नेरश, पूर्व सरपंच रवि, नम्बरदार ओमप्रकाश, विजेंद्र धीमान, रामकुमार कश्यप सहित तथा भारी संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे।