Karnal – वायु प्रदूषण से बचने के लिए क्या ले आहार

0
25

करनाल 6 – दिल्ली एनसीआर में वायु प्रदूषण गंभीर स्तर तक पहुंच गया है। विशेषज्ञों का मानना है कि आम जनता यह भी नहीं जानती कि वायु प्रदूषण क्या है। वायु प्रदूषण केवल उद्योगों और वाहनों के कारण नहीं होता है। धूल के कण, कारपेंट मेें केमिकल, एयर फ्रेशनर, प्लास्टिक से ऑफ-गेसिंग भी जहरीले हमले को जोड़ते हैं जो आपके फेफड़ों को सहन करना पड़ता है। वायु प्रदूषण सिर्फ साइनस संक्रमण, अस्थमा और फेफड़ो की बीमारियों से जुड़ा नहीं है, बल्कि इसे ऑटिज्म ट्रिïगर भी माना जाता है। यह दिल के दौरे, शुक्राणु उत्परिवर्तन और भ्रूण की बुद्घिमत्ता से भी जुड़ा हुआ है। हम जिस हवा में सांस ले रहे हैं, वह प्रदूषण के खतरनाक स्तर तक पहुंच गई है।  इसका मुकाबला करने के लिए न्यूट्रिशनिस्ट ज्योति का कहना है कि हम आपको कुछ ऐसे खाद्य  पदार्थों से परिचित कराना चाहते हैं जो वायु प्रदूषण से निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं।

वायु प्रदूषण से बचने के लिए ये लेने चाहिए आहार: न्यूट्रिशनिस्ट ज्योति।
ब्रोकली द बुस्टर:- अपने इम्यून सिस्टम को सही डाइट डिटॉक्स प्लान और ब्रीदिंग एक्सरसाइज से मजबूत रखें। वायु प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों को कम करने के लिए ये सबसे अच्छे तरीके हैं, न्यूट्रिशनिस्ट ज्योति का कहना है कि  सर्दी हो या गर्मी, अपने दैनिक आहार में ब्रोकली शामिल करें। वायु प्रदूषण से होने वाले मुक्त मूलक नुकसान को बेअसर करने के लिए, हमें जिन दो अंगों को सहारा देने और नियमित रूप से डेटोक्सिफाई करने की आवश्यकता है, वे हैं फेफड़े और यकृत। न्यूट्रिशनिस्ट ज्योतिका कहना है कि संतरे के छिलके, नीलगिरी और पुदीना के साथ अपने फेफड़ों को फिर से जीवंत करें और एक साफ जिगर के लिए अंगूर, चुकंदर, गाजर,  सेब, गोबी, एवोकैडो खाएं। विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली का निर्माण करने में मदद करता है, जिससे आपको एलर्जी होने की संभावना कम हो जाती हैं। सीधे शब्दों में, विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ, जैसे संतरे, स्ट्रॉबेरी, सेब, तरबूज, तीखी एलर्जी प्रतिक्रिया का मुकाबला करते हैं। विटामिन सी के अच्छे खाद्य स्त्रोत अमरूद, लाल बेल मिर्च, केला, ब्रोकोली, ब्रसेल्स स्प्राउट्ïस फूलगोभी, पपीता, पालक, हरी प्याज हैं।
हल्दी:-
हल्दी अपने विरोधी तीखे गुणों के लिए जाना जाता हैं और इसका लाभ कक्र्यूमिन में जाता हैं, इसमें मौजूद यौगिक यह फेफड़ों को प्रदूषकों के विषाक्त प्रभाव› से बचने में मदद करता हैं। वायु प्रदूषण से होने वाले फेफड़ो में खांसी और जलन से राहत पाने के लिए हल्दी और घी के मिश्रण का सेवन करें। हल्दी को गुड़ ओर मक्खन के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें, बेहतर है कि गर्म दूध में हल्दी मिलाएं और इसे नियमित रूप से रात को पिएं। न्यूट्रिशनिस्ट ज्योति सलाह देती है कि प्राकृतिक एंटीथिस्टेमांइस (एलर्जी के लिए दवाओं) में समृद्घ आहार खाने से वनस्पतिक एलर्जी प्रतिक्रियाओं में मदद मिल सकती हैं।
फलैक्सीड:-
फलैक्सीड ओमेगा-3 फैटी एसिड और फाइटोएस्ट्रोजेन के साथ पावर-पैक है। ओमेगा-3 फैटी एसिड आपके कार्डियोवास्कुलर सिस्टम और स्मॉग के प्रभाव को कम करने में सहायता करता हैं जबकि फाइटोएस्ट्रोजेन में एंटी ऑकक्सडेंट गुण होते हैं जो फेफड़ों में अस्थमा और अन्य एलर्जी प्रतिक्रियाओं के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं।  ओमेगा-3 फैटी एसिड की अधिक मात्रा वाले अन्य खाद्य पदार्थ अखरोट, फ्लैक्ससीड्ïस और तेल जैसे कि सरसों, कैनोला और अलसी हैं।
पालक:-
पालक में बीटा कैरोटीन, जेक्सैथिन, ल्यूटिन और क्लोरोफिल शामिल हैं- ये सभी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं। पालक का हर रंग क्लॉरोफिल के कारण होता है, जो कि एंटी-म्यूटाजेनिक गुणों के साथ एक मजबूत एंटी ऑक्सीडेंट है। इसमें विशेष रूप से फेफड़ों के लिए मजबूत एंटी-कैंसर गुणा पाए गए हैं।
टमाटर:-
टमाटर बीटा-कैराटीन सी और लाइकोपीन-एंटी ऑक्सिडेंट में समृद्घ हैं जो वायुमार्ग की सूजन को कम करने में मदद करते है, जिससे अस्थमा और श्वास संंबंधी अन्य समस्याओं की संभावना कम हो जाती हैं। यह माना जाता है कि लाइकोपीन एक यौगिक है जो आपको स्वस्थ रखने के लिए जिम्मेदार हैं। टमाटर में बीटा-कैरोटीन को प्रचुर मात्रा में, लोरोवर को धीमा करने के लिए जाना जाता है।
मैंग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थ:-
मैंग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थ जैसे बादाम, काजू और गेहूं के चोकर को आहार में लेने की कोशिश करें क्योंकि मैंग्नीशियम एक प्राकृतिक ब्रोन्कोडायलेटर (एजेंट है जो फेफड़ो के अंदर श्वास नलियों को आराम देता है)